Amoroha : सीआरपीएफ जवान जयसिंह का खाता खाली करने वाले झारखंड के दो साइबर ठग गिरफ्तार

अमरोहा जनपद के के मंडी धनौरा निवासी सीआरपीएफ जवान जयसिंह का खाता खाली करने वाले दो साइबर ठगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। आरोपिता ऐनीडेस्क एप डाउनलोड करके खाते से रुपये निकाल लेते थे। साइबर थाना पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेजने की कार्रवाई की है। जबकि एक मुख्य आरोपित रियाज अभी फरार चल रहा है।

एसपी अपराध सुभाष चंद गंगवार ने बताया कि सात जनवरी 2022 को अमरोहा के मंडी धनौरा के मर्गुपुर बछरायूं निवासी महीपाल ने तहरीर देकर प्राथमिकी कराया था। पीड़ित महीपाल ने बताया था कि उनका भाई जय सिंह सीआरपीएफ में तैनात है। उसकी तैनाती जम्म-कश्मीर के कुपवाड़ा में है।

दो जनवरी 2022 को उन्होंने 479 रुपये का फोन-पे से रिचार्ज कराया था। पैसे कटने के बाद भी रिचार्ज नहीं हुआ था। तब जय सिंह ने गूगल से कस्टमर केयर का नंबर सर्च कर काल बात की। काल रिसीव करने वाले ने 29 मिनट बात की और रुपये वापस करने का आश्वासन दिया।

इसके बाद आरोपित ऐनीडेस्क ऐप डाउनलोड कराया। ऐप डाउनलोड करने के बाद के जय सिंह के खाते से 11 लाख 35 हजार रुपये निकाल लिए गए। डीआईजी के आदेश इस मामले की जांच मंडल स्तरीय साइबर अपराध थाने से की गई।

जांच के दौरान पुलिस को शाहबुद्दीन, मुहम्मद शनाउल और रियाज के नाम प्रकाश में आए। शाहबुद्दीन और मो. शनाउल झारखंड के देवघर जनपद के मोहनपुर थाना क्षेत्र के घोरमारा गांव के निवासी हैं। पुलिस टीम ने वहां पहुंचकर दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपित ने पूछताछ में बताया कि वह हरियाणा के करनाल स्थित फर्नीचर वर्ल्ड घरौंदा कंपनी में काम करते हैं। जबकि मुख्य आरोपित रियाज झारखंड में रहकर ठगी के लिए दोनों आरोपितों को निर्देश देता है। पकड़े गए आरोपितों ने बताया कि वह मजदूरों के खाते में रकम स्थानांतरित करके निकाल लेते हैं। पुलिस मुख्य आरोपित की तलाश में जुटी है।

कमीशन लेकर आरोपित करते थे ठगी

पुलिस की पूछताछ में पकड़े गए आरोपित साइबर ठगों ने बताया कि पीड़ित जय सिंह के खाते से जिन खाते से निकाली गई रकम अलग-अलग मजदूरों के खाते में ट्रांसफर की गई थी। उन खातों की पुलिस डिटेल निकलवाई। खाताधारकों से पूछताछ करने पर पता चला कि उन्हें आरोपित शाहबुद्दीन और शनाउल ने बैंक में जनधन खाता खुलवाने का लालच देकर आधार कार्ड लिए थे। शाहबुद्दीन ने बताया कि रियाज उसके गांव के पास रहने वाला है और उसका रिश्ते में साढ़ू है। शादी कार्यक्रम में रियाज आया था। तब रियाज ने कुछ बैंक खाते उपलब्ध कराने के लिए कहा था। आरोपित ने कहा दूसरे खातों से रकम आने पर 15 प्रतिशत लाभ मिलेगा। शाहबुद्दीन करनाल में फर्नीचर कंपनी में मजदूरों का ठेकेदार है। उसके पास करीब 40 मजदूर हैं। आरोपितों ने उन्हीं मजदूरों को लाभ दिलाने के नाम पर खाता खुलवाए थे। ठगी की रकम आरोपित इन्हीं मजदूरों के खातों में ट्रांसफर करते थे। इसके बाद कमीशन देकर रुपये निकाल लेते थे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *